Suvichar-जो जिन्दगी बदल दें

              Suvichar/Anmol vachan -जो जिन्दगी बदल दें 

Hello Doston ! yadi app Suvichar in hindi ya anomol vachan in hindi ke liye khoj rhe hain to yah site aapke liye best hai.yahan aapko suvichar/anoml vachan in hindi with images ke sath hain..jinhe aap whatsapp status ya facebook pr bhi share kar sakte hain 

Suvichar/Anmol vachan -जो जिन्दगी बदल दें

जब हम रिश्तों के लिए
वक़्त नही निकाल पाते तो
वक़्त हमारे बीच से रिश्ता निकाल देता है
  

Jab Ham Rishton Ke Liye
Waqt Nhi Nikaal Paate To Waqt
Hamaare Beech Se Rishta Nikaal Deta Hai
 

सहने वाला जब जुल्म सहकर 
भी मुस्कुरा दे तब उस इंसान का 
बदला ऊपर वाला लेता है 

Sahne wala jab julm sahkar
bhi muskura de tab us insaan ka 
badla upar wala leta hai
 


Suvichar/Anmol vachan -जो जिन्दगी बदल दें

लहरों की ख़ामोशी को समंदर की
बेबसी मत समझना
जितनी गहराई अन्दर है
बहार उतना तूफ़ान बाकी है 

Lahron Ki Khamoshi Ko Samnadar Ki
Bebasi Mat Samjhna
Jitni Gahrayi Andar Hai
Bahar Utna Tufan Baaki Ha

जो मंजिलों को पाने की चाहत 
रखते हैं ...
वो समुंदर पर भी पुल बना देते हैं 

Jo manjilon ko paane ki chahat 
rakhte hain..
 wo samandar pr bhi pul bana dete hain 



Suvichar/Anmol vachan -जो जिन्दगी बदल दें

बेवजह शोर मचाने से
सुर्खियाँ नही मिला करती
कर्म करोगे तो खामोशियाँ
 भी अखबारों में छपेंगी
 

Bevajah Shor Machane Se
Surkhiyan Nhi Mila Karti
Karm Karoge To Khamoshiyan
Bhi Akhbaaron Me Chapengi
 
 अकेले जंग लड़ी जीत ली तो सब ने कहा 
पहुँचते हम भी अगर तू हमें खबर करता 

akele jung ladi aur jeet li to sab ne kaha 
pahunchte ham bhi agar tu hamein khabar karta


Suvichar/Anmol vachan -जो जिन्दगी बदल दें


महफूज रख बेदाग़ रख
मैली न कर ताजिंदगी
मिलती नही इंसान को
किरदार की चादर नई

Mehfooj Rakh Bedaag Rakh
Maili Na Kar Taajindagi
Milti Nhi Insaan Ko
Kirdaar Ki Chadar Naii

इंसान कपडे बदलता है ,घर बदलता है ,दोस्त बदलता है 
फिर भी परेशान क्यों रहता है ?
क्योंकि वह खुद को नही बदलता  

insaan kapde badlta hai ,ghar badlta hai ,dost badlta hai 
phir bhi preshaan q rhta hai 
kyonki wah khud ko nhi badlta 

Suvichar/Anmol vachan -जो जिन्दगी बदल दें


सजती रहे खुशियों की महफ़िल
लेकिन हर ख़ुशी सुहानी रहे
आप जिंदगी में इतने खुश रहे की
हर ख़ुशी आपकी दीवानी रहे
 


Sajti Rahe Khushiyon Ki Mahfil
Lekin Har Khushi Suhaani Rahe
Aap Jindagi Me Itne Khush Rhe Ki
Har Khushi Aapki Diwaani Rhe

जिंदगी में जो भी करना है ,उसे खुदा के भरोसे 
और अपने दम पर कीजिये  ,लोगो के भरोसे पर नही 
क्योंकि लोग कन्धों पर तब ही उठाते हैं 
जब मिटटी में मिलाना हो 

Jindagi me jo bhi karna hai ,use khuda ke bharose 
aur apne dam pr kijjiye ,logon ke bharose pr nhi 
kyonki log kandhonn pr tab hi uthaate hain jab 
mitti me milana ho 


Suvichar/Anmol vachan -जो जिन्दगी बदल दें

इंसान तब समझदार नहीं होता
जब वो बड़ी बड़ी बातें करने लगे
बल्कि तब होता है
जब वो छोटी छोटी बातों को समझने लगे

Insaan Tab Samjhdaar Nahi Hota
Jab Wo Badi Badi Baatein Karne  Lage
Balki Tab Hota Hai
Jab Wo Chhoti Chhoti Baatein Karne Lage
 

जिंदगी में कुछ अरमान बारिश की बूंदों की तरह होते हैं 
जिन्हें छूने की चाहत में हथेलियाँ तो भीग जाती हैं मगर 
हाथ हमेशा खाली रह जाते हैं 
 

Suvichar/Anmol vachan -जो जिन्दगी बदल दें

ख़ुशी के फूल उन्ही के दिलों में खिलते हैं
जो अपनों की तरह अपनों से मिलते हैं
 

Khushi Ke Phool Unhi Ke Dilon Me Khilte Hain
Jo Apnno Ki Tarah Apno Se Milte Hain
 

कभी कभी मरहम ही नही 
जख्म भी इंसान को जिन्दा रखता है 



Suvichar/Anmol vachan -जो जिन्दगी बदल दें

हमें किसी की जरूरत नही पड़ेगी ऐसा अभिमान
भी नहीं होना चाहिए
और सबको मेरी ही जरूरत पड़ेगी
ऐसा वहम भी नहीं होना चाहिए
 

Hamein Kisi Ki Jaroorat Nhi Padegi
Aisa Abhimaan Bhi Nahi Hona Chahiye
Aur Sabko Meri Hi Jaroorat Padegi
Aisa Waham Bhi Nahi Hona Chahiye

तुम्हारे अन्दर अभी इसी वक़्त वो सब कुछ है 
जो तुम्हे इस दुनिया का सामना करने के लिए चाहिए 
 

Suvichar/Anmol vachan -जो जिन्दगी बदल दें

फ़िक्र में रहोगे तो खुद जलोगे
बेफिक्र रहोगे तो दुनिया जलेगी
 

Fikr Me Rahoge To Khud Jaloge
Befikr Rahoge To Duniya Jalegi
 

अपने रास्ते खुद चुनिए क्योंकि आपको 
आपसे बेहतर और कोई  नही जानता 


Suvichar/Anmol vachan -जो जिन्दगी बदल दें

ठोकरें इसलिए नही लगती की इंसान गिर जाए
बल्कि इसलिए लगती हैं की इंसान संभल जाए 

Thokare Isliye Nhi Lagti Ki Insaan Gir Jaaye
Balki Isliye Lagti Hai Ki Insaan Sambhal Jaaye
 

इस दुनिया में कोई ऐसा मुकाम या मंजिल ऐसी नही 
जो इंसान की पहुँच से दूर हो  

विज्ञापन यहां आएंगे

टिप्पणियां

Archive

संपर्क फ़ॉर्म

भेजें